रमजान शायरी हिंदी में | Ramzan Shayari Hindi Mai

106

1
रमजान शायरी हिंदी मे

चाँद को चांदनी मुबारक सितारों को
बुलंदी मुबारक और आप सब
को हमारी तरफ से रमज़ान मुबारक
 
2
ईद का त्यौहार आया है
खुशियां अपने संग लाया है
खुदा ने दुनिया को महकाया है
देखो फिर से ईद का त्यौहार आया है
आप सभी को दिल से ईद मुबारक
 
3
जिन्दगी के हर पल खुशियों से कम न हो,
आप के हर दिन ईद के दिन से कम न हो,
ऐसा ईद का दिन आपको हमेशा नसीब हो!
हैप्पी ईद
 
4
सर् से लेकर पांवों तक तनवीर ही तनवीर हैं,
वैसे मन से बोलते हुए कुरान वो तकदीर हैं
दुनिया दिल में सोचते हुवे मुस्तुफा को देखते हुवे
वो मुसाफिर कैसा होगा जिसकी ये तस्वीर हैं.
 
5
रमजान का चांद देखा, रोजी की दुआ मांगनी, 
रोशन सीताराम डिका, आप की खैरात की दुआ मांगी,
 
6
रमज़ान में हो जाए सबकी मुराद पूरी मिले सबको ढेरों 
खुशियां ना रहे कोई इच्छा अधूरी आप सभी को रमज़ान मुबारक
 
7
वो चांद की चंदानी,
वो सेहरी की रौनक,
वो रोजा से मोहब्बत,
वो अज़ानो की गुंज,
वो इफ्तार की धूम,
वो खुदा की इबादत,
हो आप सब को रमजान मुबारक।
 
7
मुबारक हो आपको खुदा की दी यह जिंदगी,
खुशियों से भरी रहे आपकी यह जिंदगी,
गम का साया कभी आप पर ना आए,
दुआ है यह हमारी आप सदा यूं ही मुस्कुराएं रमजान मुबारक!
 
8
ऐ चाँद उनको मेरा पैगाम कहना
खुशी का दिन और हसी की हर शाम कहना
जब वो देखे बहार आकर तो उनको मेरी तरफ से
मुबारक हो रमज़ान कहना
 
9
सदा हंसते रहो जैसे हंसते हैं फूल
दुनिया के सारे ग़म तुम्हें जाए भूल
चारों तरफ फैलाओं खुशियों के गीत
इसी उम्मीद के साथ यार तुम्हे
मुबारक हो रमज़ान
 
10
रमज़ान आया है, रमज़ान आया है
रहमतों की बरकतों का महीना आया है
लूट लो नेकियाँ जितना लूट सकते हो
पूरे एक साल में ये ऑफर का महीना आया हैं।
 
11
खुशियों का आपको पैगाम भेज रहे है
दुआओं से भरा ये सलाम भेज रहे है
खुदा के इस पाक महीने में आपको हम
दुआ-ऐ-रमजान भेज रहे है| रमजान
मुबारक
 
12
तू अगर मुझे नवाजे तो तेरा करम है
मौला वरनातेरी रहमतों के काबिल मेरी
बंदगी नहीं| रमजान मुबारक
 
13
रमजान के महीने में सबकी खुशियाँ पूरी हो,
सबको मिले ढ़ेरों खुशियाँ, कोई ख्वाहिश न अधूरी हो.
रमजान मुबारक
 
14
रमज़ान वो महीना है जिस में
अल्लाह की बेशुमार रहमत बरसती हैं.
Ramadan Mubarak

15
आप हमारे दिल में रहते हैं,
इसलिए सबसे पहले हम आपको
“Ramadan Mubarak” कहते हैं.
 
16
चाँद से रोशन हो रमजान तुम्हारा
इबादत से भरा हो रोज़ा तुम्हारा
हर रोज़ा और नमाज़ कबूल हो तुम्हारी
यही अल्लाह से है दुआ हमारी
 
17
 भी रोजे रखूंगी या अल्लाह तौफीक दे मैं 
भी नमाज पढ़ूगी या अल्लाह तौफीक दे
 
18
वह जिसके लिए तुम अपने भाई के दुश्मन हो 
जाते हो वह दौलत पर भी खुदा 
ने जकात फर्ज किया है

 

रमजान बहुत-बहुत मुबारक हो आप सभी को अगर आपको
यह हमारी पोस्ट पसंद आई हो तो इसको
आप अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें 
 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here