[50+] बेस्ट हिंदी मोटिवेशनल शायरी। | Best Hindi Motivational Shayari

186

Best Hindi Motivational Shayari

1

सामने हो मंजिल तो रास्ते ना मोड़ना
जो भी मन में हो वो सपना मत तोड़ना
कदम कदम पर मिलेगी मुश्किल आपको
बस सितारे छूने के लिए जमीन मत छोड़ना

2

आज तेरे लिए वक्त का इशारा है,
देखता ये जहां सारा है,
फिर भी तुझे रास्तों की तलाश है,
आज फिर तुझे मंज़िलो ने पुकारा है।

3

साहिल पे पहुंचने से इनकार किसे है लेकिन,
तूफ़ानो से लड़ने का मज़ा ही कुछ और है,
कहते है, कि किस्मत खुदा लिखता है लेकिन,
उसे मिटा के खुद गढ़ने का मजा ही कुछ और है।

4

ज़िन्दगी बहुत हसीन है,
कभी हंसाती है, तो कभी रुलाती है,
लेकिन जो ज़िन्दगी की भीड़ में खुश रहता है,
ज़िन्दगी उसी के आगे सिर झुकाती है।

5

सोचने से कहाँ मिलते हैं तमन्नाओं के शहर,
चलना भी जरुरी है मंजिल को पाने के लिए।

6

हवाओं से कह दो अपनी औकात में रहे
हम परों से नहीं हौसलों से उड़ते हैं

7

जिंदगी में कभी किसी अपने का साथ मत छोड़ना,
जिंदगी में कभी किसी का दिल मत तोड़ना,
बस जिंदगी तो उसे ही कहते हैं,
जो एक पल में सारा जहां जी लेते हैं

8

समुंदर में उतर लेकिन उभरने की भी सोच
डूबने से पहले… गहराई का अंदाज़ा लगा।

9

ज़िंदगी को खूबसूरती और ज़िंदादिली के साथ जीना है तो,
हर पल को महसूस कीजिये,
ईश्वर को दिल से धन्यवाद दीजिये कि,
उपहार मे दिया हुआ उनका ये पल,
आपके लिए एक अनमोल तोहफा है,
जो सिर्फ आपको मिला है |

10

बेहतर से बेहतर कि तलाश करो,
मिल जाये नदी तो समंदर कि तलाश करो,
टूट जाता है शीशा पत्थर कि चोट से,
टूट जाये पत्थर ऐसा शीशा तलाश करो।

11

जिन्दगी में सफलता पाने के लिए,
थोड़ा जोखिम उठाना पड़ता है,
सीढ़ियाँ चढ़ते समय उपर जाने के लिए,
नीचे की सीढ़ी से पैर हटाना पड़ता है !!

12

रो कर मुस्कुराने का मजा ही कुछ और है,
जिंदगी में कुछ खो कर पाने का मजा ही कुछ और है,
ज़िन्दगी में हार और जीत तो लगी ही रहती है,
लेकिन हार के जीतने का मजा ही कुछ और आता है।

13

मालिक पर भरोसा रख अपने गमों की नुमाइश न कर,
जो तेरा है वो चल के आएगा तेरे दर पे,रोज़ उसे पाने की ख़्वाहिश न कर ।

14

मत बैठ आशियाँ में परों को समेट कर,
कर हौसला खुली फिजाओं में उड़ान का।

15

उड़ने में बुराई नहीं है, पर आप भी उड़े,
लेकिन उतना ही जहां से जमीन साफ दिखाई देती हो..

16

जिसमे उबाल हो ऐसा खून चाहिये,
जीत के खातिर ऐसा जुनून चाहिए,
ये आसमान भी आएगा ज़मीन पर,
बस इरादों में ऐसी गूंज चाहिये।

17

जिंदगी में जो हम चाहते हैं, वो आसानी से नहीं मिलता,
लेकिन जिंदगी का सच यह है कि,
हम भी वही चाहते हैं जो आसान नहीं होता…!

18

सबके लबो पर एक दिन तेरा ही नाम होगा,
हर कदम पे तेरे, दुनिया का सलाम होगा,
हर मुसीबत का सामना करना तू डट कर,
देखना समय एक दिन तेरा भी गुलाम होगा।

19

संघर्ष में आदमी अकेला होता है,
सफलता में दुनियां उसके साथ होती है,
जिस-जिस पर यह जग हंसा है,
उसी ने इतिहास रचा है…

20

इन निगाहों में मन्ज़िले हैं,
सामने कठिन रास्ते हैं बहुत,
लेकिन मैं हर मुश्किल से उलझ गया,
और मैं सबसे आगे निकल गया।

21

साहिल के सुकूँ से किसे इंकार है लेकिन,
तूफ़ान से लड़ने में मज़ा और ही कुछ है।

22

कमाल का ताना दिया आज मंदिर में भगवान ने,
मांगने ही आते हो कभी मिलने भी आया करो!

23

आज तेरे लिए वक्त का इशारा है,
देखता ये जहां सारा है,
फिर भी तुझे रास्तों की तलाश है,
आज फिर तुझे मंज़िलो ने पुकारा है।

24

सामने हो मंजिल तो रास्ता ना मोड़ना;
जो मन में हो वह ख्वाब न तोड़ना;
हर कदम पर मिलेगी कामयाबी तुम्हें;
बस सितारे छूने के लिए कभी जमीन ना छोड़ना!

25

बिना संघर्ष कोई महान नही होता,
बिना कुछ किये जय जय कार नही होता,
जब तक नहीं पड़ती हथोड़े की चोट,
तब तक कोई पत्थर भी लोगों के लिए भगवान नही होता।

26

तुम यहाँ धरती पर लकीरें खींचते हो,
हम वहाँ अपने लिये नये आसमान ढूंढते हैं,
तुम बनाते जाते हो पिंजड़े पर पिंजड़ा,
हम अपने पंखों में नयी उड़ान ढूंढते हैं।

27

मेरे व्यक्तित्व और मेरे व्यवहार को कभी लक मिलाइयेगा!!
क्योंकि मेरा व्यक्तित्व मैं हूं और मेरा व्यवहार आप पर निर्भर करता है…!!

28

जो फकीरी मिजाज रखते हैं
वो ठोकरों में ताज रखते हैं,
जिनको कल की फ़िक्र नहीं
वो मुठ्ठी में आज रखते हैं।

29

इंसान जिंदगी में गलतियां करके उतना दुखी नहीं होता है,
जितना कि वह बार बार उन गलतियों
के बारे में सोच कर होता है!!

30

जो इस वक्त मुस्कुरा रहा है, कभी उसे दर्द ने पाला होगा।
और जो इस वक्त चल रहा, उसके पैर में ज़रूर छाला होगा।
बिना मेहनत के कोई भी चमक नही सकता,
जो दिया जल रहा है उसी से ही तो उजाला होगा।

31

फ़िक्र मत कर बन्दे कलम कुदरत के हाथ है,
लिखने वाले ने लिख दिया किस्मत तेरे साथ है,
फ़िक्र करता है क्यों, से होता है क्या,
रख भगवान पे भरोसा देख फिर होता है क्या।

32

दुनिया का हर शौक…
पाला नहीं जाता, कांच के खिलौनों को… उछाला नहीं जाता,
मेहनत करने से हो जाती है… मुश्किले आसान,
क्योंकि हर काम तकदीर पर टाला नहीं जाता…!!!

34

शमा परवाने को जलाना सिखाती है,
शाम सूरज को ढलना सिखाती है,
मुसाफिर को ठोकरों से होती तो हैं तकलीफें,
लेकिन ठोकरें ही एक मुसाफिर को चलना सिखाती हैं।

35

परिंदा कहता है अपने पँखो को खोलकर, अभी तो पूरी उड़ान बाकी है,
अभी तो एक मुट्ठी ज़मीन ही ली है, अभी तो पूरा आसमान बाकी है।
लहरों को शांत समझ कर ये मत सोचना के उसमे रवानी नही है,
समुद्र में जितनी गहराई है उतना ही उसके ऊपर तूफान बाकी है।

36

आज बादलों ने फिर साजिश की
जहाँ मेरा घर था वहीं बारिश की
अगर फलक को जिद है बिजलियाँ गिराने की
तो हमें भी जिद है वहीं पर आशियाँ बसाने की

37

ना पूछो कि मेरी मंजिल कहाँ है
अभी तो सफर का इरादा किया है
ना हारूंगा हौंसला उम्र भर
ये मैंने किसी से नहीं खुद से वादा किया है

38

जो अपनी जिंदगी में कुछ पाना चाहते हैं,
वो समंदर में भी पत्थरों के पुल बना लेते हैं।

39

अगर आपकी किस्मत लिख सकते हम,
तो हर खुशी आपके हिस्से में लिख देते हम,
जो मोड़ आपको आपकी मन्ज़िल दिलाये,
उस रुख को आपकी तरफ मोड़ देते हम

40

चलता रहूँगा पथ पर,
चलने में माहिर बन जाऊंगा !!
या तो मंजिल मिल जाएगी,
या
अच्छा मुसाफ़िर बन जाऊंगा !!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here