Attitude Shayari in Hindi Text | Attitude शायरी हिंदी में लिखी हुई

87

इतना Attitude न दिखा ज़िंदगी में
तकदीर बदलती रहती है
शीशा तो वहीं रहता है पर
तस्वीर बदलती रहती है

शायद मै इसलिए पीछे हूँ
मुझे होशियारी नही आती
बेशक लोग ना समझे मेरी वफादारी
मगर मुझे गद्दारी नहीं आती

करता वही हो जो मुझे पसंद हे माना की
उम्र कम हे मगर हौसले बुलंद हे

माना की तुम्हे सिर्फ़ भोकना आता हे
मगर हमें सिर्फ ठोकना आता हे

अभी काच हु इसलिए दुनिया को चुभता हु
जिस दिन आईना बन जाऊँगा पूरी दुनिया देखेंगी

हमको समझने के लिए
दिल का इस्तमाल करे
अगर दिमाग़ का इस्तमाल करोंगे
तो हेंग हो जाओंगे

आज कल तो अच्छे लोगों का
नाम हे इस दुनिया में जिस
दिन हम बुरे होंगे तब
तो बादशाह हम होंगे

ना घर पर रहते हे ना घाट पर
हम तो उनकी शरण में रहते हे
जिन्हे लोग भस्मधारी महादेव
कहते हे। जय महाकाल

Best attitude shayari in Hindi with image

बादशाह नहीं बाजीगर से पहचानते है लोग
क्यूंकि हम रानियो के सामने झुका नहीं करते

ये दुनिया मोहब्बत को मोहब्बत नहीं देती
इनाम तो बड़ी चीज है कीमत नहीं देती
देने को मैं भी दे सकता हूँ गाली उसे
मगर मेरी तहजीब मुझे इजाज़त नहीं देती

हम तो दिलों पर राज किया करते हैं
रूठे हुए को भी हम मना लिया करते हैं
मुलाकातें तो हमारी सबसे कम ही होती हैं
लेकिन हम जब भी मिलते हैं तो मुस्कुरा दिया करते हैं

अपनी मोहब्बत के लिए आशियाना बदल देंगे
दिल ने चाहा तो ये फ़साना बदल देंगे
अरे दुनिया वालों तुम्हारी हस्ती ही क्या है
जरूरत पड़ी तो सारा ज़माना ही बदल देंगे

दिल से करते है मोहब्बत हो या नफरत
तभी तो यारो के यार है और दुश्मनो के दुश्मन

हम कुछ दिन खामोश क्या हुए
तुम्हे लगा राज तुम्हारा होगा
थोड़ा इंतज़ार करो मेरी जान
आतंक दुबारा होगा

पीठ पीछे कौन क्या बोलता है फर्क नहीं पड़ता
सामने किसी का मुंह नहीं खुलता यही काफी है

बेटे दिमाग खराब मत कर
ना तेरे अर्जी से ना मेरी अर्जी से आनी है
और एड्रेस जान के क्या कर लेगा
मौत तो खुदा की मर्जी से आनी है

कैसे कह दु अपना तुमको जब
मुसीबत में साथ खड़े नही हुए तुम
और मेरे कंधे पे हाथ रखोगे बेटे
अभी इतने बड़े नही हुए तुम

Attitude shayari Hindi mein likhiye with image

शांखो से गिर कर टूट जाऊ मै वो पत्ता नही
आंधियो से कह दो कि अपनी औकात मे रहें

दुनिया में इतनी रस्में क्यों है
प्यार अगर जिंदगी है तो इसमें इतनी कसमे क्यों है
हमें बताता क्यों नहीं यह राज कोई
दिल अगर अपना है तो किसी और के बस में हूं

तूफ़ान में ताश के महल नहीं बनते
रोने से बिगड़े मुकद्दर नहीं बनते
सारी दुनिया को जीतने का दम रख ऐ बन्दे
क्यूंकि एक हार से लोग फ़कीर
और एक जीत से सिकंदर नहीं बनते

अभी सूरज नहीं डूबा ज़रा सी शाम होने दे
मैं खुद लौट जाऊंगा मुझे नाकाम तो होने दे
मुझे बदनाम करने का बहाना ढूंढते क्यों हो
मैं खुद हो जाऊंगा बदनाम पहले नाम तो होने दे

भूलकर हमें अगर तुम रहते हो सलामत
तो भूलकर तुम्हे संभालना हमें भी आता है
मेरी फितरत में ये आदत नहीं है वर्ना
तेरी तरह बदल जाना हमें भी आता है

चमक सूरज की नहीं मेरे किरदार की है
खबर ये आसमान के अख़बार की है
मैं चलू तो मेरे संग कारवां चल
बात गुरुर की नहीं ऐतबार की है

बिकने वाले और भी हैं जाओ जाकर खरीद लो
हम कीमत से नहीं किस्मत से मिला करते हैं

हादसों की ज़द में हैं तो क्या मुस्कुराना छोड़ दें
जलजलों के खौफ से क्या घर बनाना छोड़ दें

हम अच्छे सही पर लोग ख़राब कहतें हैं
इस देश का बिगड़ा हुआ हमें नवाब कहते हैं
हम ऐसे बदनाम हुए इस शहर में
कि पानी भी पिये तो लोग उसे शराब कहते हैं

Attitude shayari with image 2021
Best attitude shayari

अभी काच हु इसलिए दुनिया को चुभता हु
जिस दिन आईना बन जाऊँगा पूरी दुनिया देखेंगी

कहते है हर बात जुबां से हम इशारा नहीं करते
आसमान पर चलने वाले जमीं से गुज़ारा नहीं करते
हर हालात को बदलने की हिम्मत है हम में
वक़्त का हर फैसला हम गंवारा नहीं करते

सर झुकाने की आदत नहीं है
आँसू बहाने की आदत नहीं है
हम खो गए तो पछताओगे बहुत
क्युकी हमारी लौट के आने की आदत नहीं है

तेरी मोहब्बत मैं और मेरी फितरत मैं फर्क इतना है की
तेरा Attitude नही जाता और मुझे झुकना नहीं आता

हुकुमत वो ही करता है जिसका दिलो पर राज हो
वरना यूँ तो गली के मुर्गो के सर पे भी ताज होता है

माना की नसीब में मेरे कोई सनम नहीं
फिर भी कोई शिकवा कोई गम नहीं
तनहा थे और तनहा जिये जा रहे है
बदनसीब तो वो है जिनके नसीब में हम नहीं

हमको आजमाने की जुर्रत किसी की
हम खुद अपना तकदीर लिखते है
खुदा के लिखावट को बदलना तो हमारी फितरत है
हार को जीत में बदल कर हाथों की लकीर बदलते है

राज तो हमारा हर जगह पे है
पसंद करने वालों के दिल में
और नापसंद करने वालों के दिमाग में

ज़िन्दगी से हम अपनी कुछ उधार नहीं लेते
कफ़न भी लेते है तो अपनी ज़िन्दगी देकर

इतनी पीता हूँ कि मदहोश रहता हूँ
सब कुछ समझता हूँ पर खामोश रहता हूँ
जो लोग करते हैं मुझे गिराने की कोशिश
मैं अक्सर उन्ही के साथ रहता हूँ

जहां दूसरों के लिए भीड़ खड़ी हो
वहाँ खड़ा होना मकसद नही है मेरा
बल्कि मेरे लिए खुद भीड़ खड़ी हो
वो बनना मकसद है मेरा

हमारी तो कुंडली मे शनि है,
हमारे दिल मे मनी है,
और हमसे दुश्मनी है,
तो तेरे लिए ये तीनो ही बहुत महंगी हैं

मेरे बिना रह ना पाओ मुझसे इतना भी प्यार मत करना, जो निभा ना पाओ वो करना वादे हज़ार मत करना, मै जुबाँ का मुसाफिर हूँ कभी निभाने निकल गया तो ज़िन्दगी में आगे बढ़ जाना मेरा इंतज़ार मत करना

तर्रकी देखकर ये वापिस कौन आ रहे है
ब्लॉक करने वालो के भी फ़ोन आ रहे है
जरा भी शर्म नहीं है इन लोगो को
एकबार पहले अपनी औकात दिखाई थी
एकबार फिर अपनी औकात दिखा रहे है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here